Breaking Newsकोलकाता

अब शादी करेंगे 65 के मटुकनाथ, पर जूली से नहीं

पटना। लवगुरु के नाम से मशहूर पटना विश्वविद्यालय के बीएन कॉलेज में हिंदी विभाग के प्रोफेसर मटुकनाथ चौधरी बुधवार (31 अक्‍टूबर 2018) को रिटायर हो रहे हैं। उन्‍होंने एक लंबी फेसबुक पोस्‍ट लिखकर रिटायरमेंट के दिन को स्‍वाधीनता दिवस बताया है। 30 साल छोटी स्‍टूडेंट जूली के साथ लिव-इन में रहे प्रोफेसर मटुकनाथ अब एक कन्‍या तलाश रहे हैं, ताकि शादी की जा सके। 2006 में अपनी स्‍टूडेंट जूली के साथ लिव-इन में रहने के चलते प्रोफेसर मटुकनाथ सुर्खियों में आए थे। उन्‍होंने अपनी पत्‍नी तक को छोड़ दिया था, लेकिन अब जूली उनके साथ नहीं है।

मटुकनाथ कहते हैं- मैं किसी स्‍त्री को ना नहीं कह सकता

पत्नी को छोड़ने के सवाल पर मटुकनाथ कहते हैं- मैंने उसके सा थ कोई ज्‍यादती नहीं की। मैंने सिर्फ प्रेम किया है। मटुकनाथ कहते हैं-मेरे जीवन में प्रेमिकाएं अनंत हैं। मैं किसी स्त्री को इंकार नहीं कर सकता कि वह मेरी प्रेमिका न बने। यह मेरे लिए संभव नहीं है।

प्रोफेसर 
प्रोफेसर मटुकनाथ ने फेसबुक पर लिखा-

चढ़ती जवानी मेरी चाल मस्तानी

मैं 65 वर्ष का लरिका हूं ! मेरी जवानी ने अभी अंगड़ाई ली है ! मेरे अंग-अंग से यौवन की उमंग छलक रही है ! जब मैं मस्त होकर तेज चलता हूं तो लोग नजर लगाते हैं ! दौड़ता हूं तो दांतों तले उंगली दबाते हैं —
अब हम कैसे चलीं डगरिया
लोगवा नजर लगावेला!
मेरी खुशनसीबी कि इस चढ़ती जवानी में रिटायर हो रहा हूं! लोग पूछते हैं कि रिटायरमेंट के बाद क्या कीजिएगा? 
चढ़ती जवानी में जो किया जाता है, वही करूंगा !
मतलब?

मतलब मैं ब्‍याह करूंगा 
मटुकनाथ आगे लिखते हैं- मतलब मैं ब्‍याह करूंगा

मतलब यह कि मैं ब्याह करूंगा ! बरतुहार बहुत तंग कर रहे हैं! उनकी आवाजाही बढ़ गई है! लेकिन मैं एक अनुशासित, शर्मीला और प्रेमी लरिका हूं! इसलिए खुद बरतुहार से बात नहीं करता हूं। उन्हें गार्जियन के पास भेज देता हूं! मेरे विद्यार्थी ही मेरे गार्जियन हैं! वे जो तय कर देंगे, आंख मूंदकर मानूँगा! उनसे बड़ा हितैषी मेरा कोई नहीं हो सकता!

Tags
Show More

Leave a Reply

 Click this button or press Ctrl+G to toggle between multilang and English

Your email address will not be published. Required fields are marked *