Breaking Newsकोलकाता

उल्टाडांगा से कांकूरगाछी होकर गिरीश पार्क तक बनेगा नया फ्लाईओवर

 कोलकाताः उल्टाडांगा से कांकूरगाछी होते हुए   एक नया फ्लाईओवर के निर्माण पर पहल शुरू हो गयी है. फ्लाई ओवर के निर्माण के लिए विस्तारित परियोजना की रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार करने को लेकर केएमडीए भी तत्पर हो गया है. राजारहाट, न्यूटाउन, बागुईआटी, साल्टलेक, लेकटाउन सहित पूर्व कोलकाता के निवासी जल्द से जल्द मध्य कोलकाता व हावड़ा स्टेशन पहुंच सके, उसके लिए परियोजना की परिकल्पना की गयी है. प्राथमिकतौर पर जो परिक्‍लपना की गयी है. उसके तहत फ्लाई ओवरों को बीच के दो क्रासिंग पर गिराया जायेगा.

जाम की समस्या से मिलेगी निजात

यह दोनों क्रासिंग कांकूरगाछी और मानिकतला मोड़ हैं. कांकूरगाछी मोड़ से वाहन बंगाल केमिकल होकर ईएम बाईपास की ओर जा सकेगी. मानिकतला क्रासिंग से फ्लाईओवर से उतर कर एपीसी रोड जाया जा सकेगा. अभी हालांकि फैसला नहीं हुआ है पर प्रस्तावित इस फ्लाईओवर के साथ टूट कर गिरे पोस्ता फ्लाईओवर (विवेकानंद फ्लाई ओवर) को जोड़ा जायेगा या नहीं इसको लेकर भी विचार विमर्श किया जा रहा है. पोस्ता फ्लाईओवर की शुरुआत गिरीश पार्क क्रासिंग के पास ही की गयी है. इस परियोजना के कार्यान्वित होने पर गिरीश पार्क क्रासिंग से प्रस्तावित फ्लाईओवर से चित्तरंजन एभेन्यू पर उतरने का रास्ता होगा. उसके बाद २०१६ के मई महीने में गिरे फ्लाई ओवर का भविष्य क्या होगा, इस विषय में राज्य सरकार कोई ठोस निर्णय पर नहीं आ सकी है.

मुख्य सचिव के नेतृत्व में उच्चस्तरीय एक कमिटी का गठन किया गया है. फ्लाई ओवर को पूरी तरह से तोड़ कर गिराने पर इसके निर्माण में जितना खर्च हुआ था वह पूरा पानी में चला जायेगा. इसलिए फ्लाईओवर को फिर से निर्माण करना भी सरकार के सोच में हैं. टूटे फ्लाईओवर को फिऱ से बनाया जा सकता है. ऐसा रिपोर्ट विशेषज्ञों ने सरकार को दिया है. नये फ्लाईओवर के निर्माण के विषय में राज्य के क्रेता सुरक्षा विभाग के मंत्री साधन पांडे ने जोरशोर से पहल की है. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, शहरी विकास मंत्री फिरहाद हकीम,मुख्य सचिव मलय दे के साथ उन्होंने इस विषय में चर्चा की है.

साधन पांडे ने परियोजना की जोर शोर से पहल की

साधन पांडे ने कहा कि मुख्यमंत्री इस परियोजना को लेकर काफी आग्रही हैं. फिरहाद हकीम भी विषय को महत्व के साथ देख रहे हैं. नवान्न से निर्देश आने के बाद डीपीआर निर्माण के प्रयास शुरू कर दिये गये हैं. राइट्स से इस परियोजना का निर्माण कराया जायेगा. शहर में नये फ्लाईओवर के निर्माण के समय जाम की समस्या उत्पन्न हो सकती है. इस आशंका को देखते हुए पुलिस की ओर से आपत्ति जताई गयी थी. परंतु नवान्न ने पुलिस की आपत्ति स्वीकार नहीं की. जिसके फलस्वरूप फ्लाईओवर परियोजना को कार्यानिवत करने में गति आ रही है.

500 करोड़ के लागत का अनुमान

केएमडीए के अधिकारियों का यह मानना है कि उल्टाडांगा से गिरीश पार्क तक फ्लाईओवर के निर्माण में ५०० करोड़ रुपये खर्च हो सकते हैं. इस रास्ते पर वर्तमान में काफी जाम लगती है. विशेष कर कांकूरगाछी, मानिकतल्ला क्रासिंग व विवेकानंद रोड पर जाम के कारण गाड़ी काफी देर तक खड़ी रहती है. मानिकतला क्रासिंग के पास जो सेतू है उसकी हालत ठीक नहीं है. 

 

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *