Breaking Newsदेश

कांग्रेस ने समाज को विभाजित किया : मोदी

दांडी मार्च की योजना में सरदार पटेल की महत्वपूर्ण भूमिका

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को दांडी मार्च की वर्षगांठ पर महात्मा गांधी और उन सभी को श्रद्धांजलि दी, जो न्याय और समानता की खोज में बापू के साथ दांडी गए थे। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी देशवासियों में भाई चारे की अटूट भावना को असल आजादी मानते थे लेकिन दुख की बात है कि कांग्रेस ने समाज को विभाजित करने में कभी संकोच नहीं किया। 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोशल मीडिया पर अपने ब्लॉग में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की समाज को जोड़ने और स्वतंत्रता आंदोलन में उनके योगदान के लिए सराहना करते हुए कहा कि उस समय एक मुट्ठी नमक ने अंग्रेजी साम्राज्य को हिला दिया था। 1930 में आज ही के दिन महात्मा गांधी ने अहमदाबाद में साबरमती आश्रम से नमक सत्याग्रह के लिये दांडी यात्रा शुरू की थी। मोदी ने कहा कि गांधी जी ने आजीवन अपने कार्यों से संदेश दिया कि उन्हें असमानता और जाति विभाजन किसी भी स्थिति में स्वीकार्य नहीं है।

मोदी ने कांग्रेस की संस्कृति पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि दुख की बात है कि कांग्रेस ने समाज को विभाजित करने में कभी संकोच नहीं किया। सबसे भयानक जातिगत दंगे और दलितों के नरसंहार की घटनाएं कांग्रेस के शासन में ही हुई हैं। उन्होंने कहा कि बापू ने अतिरिक्त आय से दूर रहने की बात कही थी। हालांकि कांग्रेस ने अपने सभी बैंक खातों को भरने और गरीबों को बुनियादी आवश्यकताएं प्रदान करने की कीमत पर शानदार जीवन शैली का नेतृत्व किया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि बापू ने वंशवादी राजनीति का तिरस्कार किया लेकिन आज ‘वंश पहले’ कांग्रेस के लिए रास्ता है।

उन्होंने कहा कि गांधी जी ने कांग्रेस की संस्कृति को अच्छी तरह से समझा था, यही वजह है कि वह चाहते थे कि 1947 के बाद कांग्रेस का विघटन हो। मोदी ने कहा कि लोकतंत्र में दृढ़ विश्वास रखने वाले बापू ने कहा था कि वह लोकतंत्र को ऐसी चीज के रूप में समझते हैं, जो कमजोर को भी सबल के समान अवसर देती है।

उन्होंने कहा कि विडंबना है कि कांग्रेस ने देश को आपातकाल दिया, जब हमारी लोकतांत्रिक भावना को रौंद दिया गया। कांग्रेस ने अनुच्छेद 356 का कई बार दुरुपयोग किया। यदि वे एक नेता को पसंद नहीं करते तो सरकार बर्खास्त कर दी जाती है। हमेशा वंशवादी संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए उत्सुक कांग्रेस के पास लोकतांत्रिक मूल्यों के लिए कोई चिंता नहीं है।

केंद्र के खिलाफ ममता बनर्जी ने लिखी नई किताब

Tags
Show More

Leave a Reply

 Click this button or press Ctrl+G to toggle between multilang and English

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button