Breaking Newsदेश

देशवासियों के सहयोग से होगा स्वच्छता का सपना साकार : पीएम

.)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वच्छता को जन आंदोलन बनाने की जरूरत पर बल देते हुए कहा कि सवा सौ करोड़ देशवासियों के सहयोग के बिना स्वच्छता का सपना साकार नहीं हो सकता है। उन्होंने कहा कि एक हजार गांधी आ जाएं, एक लाख मोदी आ जाएं तो भी स्वच्छता का सपना पूरा नहीं हो सकता लेकिन सवा सौ करोड़ देशवासी आ जाएं तो पूरा हो जाएगा।

स्वच्छता अभियान के तीन साल पूरे होने के मौके पर सोमवार को यहां विज्ञान भवन में आयोजित समारोह में प्रधानमंत्री ने कहा कि महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री की जयंती का यह अवसर असल में एक मौका है जब हम यह विचार कर सकें कि स्वच्छ भारत के अपने लक्ष्य की दिशा में हम कितना आगे आ चुके हैं। उन्होंने याद दिलाया कि जब तीन साल पहले स्वच्छ भारत आंदोलन शुरू किया गया था तब उसकी कितनी आलोचना हुई थी। उन्होंने कहा कि वह आश्वस्त हैं कि जो मार्ग महात्मा गांधी ने दिखाया है वह गलत नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि यहां भी चुनौतियां होने के बावजूद इसका मतलब यह नहीं है कि किसी को उनसे दूर रहना चाहिए।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज लोग एक आवाज में स्वच्छता के लिए अपनी इच्छा व्यक्त कर रहे हैं। उन्होंने जोर दिया कि स्वच्छता को नेताओं और सरकारों के प्रयासों के जरिए हासिल नहीं किया जा सकता है लेकिन समाज के प्रयासों के माध्यम से ही प्राप्त किया जा सकता है। जन भागीदारी को सराहा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि आज स्वच्छता अभियान एक सामाजिक आंदोलन बन गया है। उन्होंने कहा कि आज तक जो कुछ भी हासिल किया गया है वह भारत के लोगों की उपलब्धि है।

उन्होंने कहा कि यदि स्वराज सत्याग्रहियों द्वारा प्राप्त किया गया था तो श्रेष्ठ भारत स्वच्छाग्रहियों द्वारा प्राप्त किया जाएगा। शहरों की स्वच्छता रैंकिंग का उल्लेख करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्होंने एक सकारात्मक, प्रतिस्पर्धी माहौल विकसित किया है। स्वच्छता को भी विचारों में क्रांति की जरूरत है और प्रतियोगिता स्वच्छता की अवधारणा के विचारों को एक मंच प्रदान करती है। प्रधानमंत्री ने उन सभी लोगों को बधाई दी जिन्होंने ‘स्वच्छता ही सेवा’ पखवाड़े के दौरान योगदान दिया था लेकिन कहा कि बहुत कुछ करने की जरूरत है।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *