Breaking NewsStateदेश

नोटबंदी ‘शताब्दी का महाघोटाला,’ विपक्षी दल मनाएंगे काला दिवस : कांग्रेस

नई दिल्ली,  एकजुट विपक्षी दलों ने नोटबंदी के मुद्दे पर केंद्र सरकार को घेरने की रणनीति तैयार कर ली है। कांग्रेस समेत विपक्ष की 18 पार्टियां 8 नवंबर को नोटबन्दी की वर्षगांठ को काले दिन के तौर पर ‘स्कैम ऑफ सेंचुरी’ के रुप में मनाने का ऐलान किया है। इसी सिलसिले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के नेतृत्व में इस मुद्दे पर अहम बैठक हुई जिसमें 6 दलों के साथ पार्टी ने विपक्षी दलों की कोआर्डिनेशन कमेटी बनाई है।
इसकी जानकारी देते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ और राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने एक साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि विपक्ष की 18 पार्टियों ने संसद में एक गठबंधन बनाया है। संसद के बाहर भी अन्य छोटे क्षेत्रीय दलों को मिलाकर एक गठबंधन बना है जिसकी अध्यक्षता सोनिया गांधी करती हैं और करती रहेंगी। मानसून सत्र के आखिरी दिन की बैठक में शीतकालीन सत्र में एक कोआर्डिनेशन कमेटी बनाने का निर्णय किया गया था। जिसमे संयुक्त रूप से रणनीति बनाने का कार्य था| सोमवार को इसकी पहली बैठक 6 प्रमुख नेताओं की हुई जिसमें 1 वर्ष नोटबन्दी के होने के अवसर पर 8 नवम्बर को इस घोषणा के बाद संसद और संसद के बाहर और कई विधानसभा ने इसका विरोध करने का फैसला किया था।
आजाद ने कहा, ‘1000 और 500 के नोट बन्द कर दिये गए थे जिसके असर पूरा देश सड़कों पर था, नोट बदलने के लिए। सरकारी रिकॉर्ड के अनुसार नोटबन्दी में 120 लोगों की मौत हुई| अनधिकृत रूप से यह आंकड़ा 400 के करीब था। यह कई धर्मों के बुजुर्ग थे। यह सरकार का बेवकूफी भरा फैसला था। यह इतिहास है कि प्रधानमंत्री के निर्णय में इन्हीं की सरकार को 135 संशोधन करना पड़ा। इससे जाहिर होता है कि यह कितना अनैतिक फैसला था। तमाम विपक्षी दलों ने अर्थव्यवस्था में नुकसान की आशंका जताई थी, बेरोजगारी बढ़ेगी। पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने भी कहा था कि 2% जीडीपी नीचे जाएगी। मनमोहन का आकलन बिल्कुल सही साबित हुआ। नोटबन्दी में दावा किया गया था कि इससे कालाधन वापस आएगा, आतंकवाद पर रोक लगेगी लेकिन हुआ कुछ नहीं। आरबीआई के आंकड़ों के अनुसार 99% धन वापस आ चुका है। 1% से ज्यादा कॉपरेटिव बैंकों में है| इसमें भी सरकार के नुमाइंदों को जेल जाना पड़ेगा। पीएम ने 10 करोड़ रोजगार देने का वायदा किया था लेकिन 10 करोड़ रोजगार छीन लिए| इसलिए विपक्ष आगामी 8 नवम्बर को काले दिन के नाम से मनाएगा। करोड़ो लोगों को बेरोजगार करने लघु उद्योगों को बंद कर दिया गया। 8 को सभी विपक्षी दल इसका विरोध हर क्षेत्र में करेंगे । 70 साल की इमारत को सरकार ने गलत फैसले से तोड़ दिया। यूपीए द्वारा संजोई गई इकोनॉमिक को 9% ले गए और आज वो 5.7 पर ले आए। देश को पीछे धकेलने का कार्य किया है।‘

Tags
Show More

Did You Know ?

Mind Test

Leave a Reply

 Click this button or press Ctrl+G to toggle between multilang and English

Your email address will not be published. Required fields are marked *