Breaking Newsविदेश

पाकिस्तान ने अमेरिका के लिए किया ही क्या है : डोनाल्ड ट्रंप

वॉशिंगटन। अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने एक बार फिर पाकिस्‍तान को फटकार लगाई है। ट्रंप ने कहा है कि पाकिस्‍तान ने अमेरिका के लिए कुछ नहीं किया है बल्कि आतंकियों को सुरक्षित पनाहगार देकर बस उसका सिरदर्द ही बढ़ाया है। ट्रंप ने रविवार को यह बात उस समय कही है जब वह अपने प्रशासन के उस फैसले को सही करार दे रहे थे जिसमें पाकिस्‍तान की आर्थिक मदद को रोकने का कदम उठाया गया था। आपको बता दें कि इस वर्ष अमेरिका ने पाकिस्‍तान को मिलने वाली दो बिलियन डॉलर की मिलिट्री मदद को रोकने का ऐलान किया था। ट्रंप ने एक बार फिर से आसोमा बिन लादेन का जिक्र किया और पाक को बताया कि किस तरह से इसकी सरजमीं पर आतंकी सक्रिय हैं।

लादेन पाक में था और पाक अमेरिका से मदद ले रहा था 
राष्‍ट्रपति ट्रंप ने आतंकियों को सुरक्षित पनाह देने के लिए फिर से पाकिस्‍तान पर निशाना साधा। ट्रंप ने कहा पाकिस्‍तान ने उन एजेंट्स को पनाह दी जिन्‍होंने अफगानिस्‍तान में कई अमेरिकी नागरिकों की हत्‍या की। ट्रंप ने फॉक्‍स न्‍यूज को दिए इंटरव्‍यू में कहा, ‘ओसामा बिन लादेन पाकिस्‍तान में रह रहा था और अमेरिका, पाक की मदद कर रहा था।’ रविवार को ऑन एयर हुए इस इंटरव्‍यू में ट्रंप ने कहा, ‘हम पाकिस्‍तान को एक वर्ष में करीब 1.3 बिलियन डॉलर की मदद दे रहे हैं, जो अब उन्‍हें और नहीं मिलेगी। मैंने इस मदद को इसलिए बंद कर दिया क्‍योंकि उन्‍हें हमारे लिए एक छोटा सा काम भी नहीं किया है।’ जिस समय लादेन मारा गया था उस समय भी सबसे पहले ट्रंप ने पाक पर आतंकियों को पनाह देने के लिए हमला बोला था।

पाकिस्‍तान को मालूम था कहा है लादेन

ट्रंप ने कहा, ‘आपको पता है पाकिस्‍तान में हर किसी को मालूम था कि लादेन वहां पर रह रहा है। वह पाक की मिलिट्री एकेडमी के एकदम सामने रह रहा था।’ ट्रंप ने यहां पर एबट्टाबाद के उस बड़े से घर का जिक्र किया जहां पर लादेन रह रहा था और जिसे साल 2011 में अमेरिकी सील कमांडो ने मार गिराया। पाकिस्‍तान हर बार इस बात से इनकार करता आया था कि लादेन पाक की मिलिट्री एकेडमी के करीब स्थित घर में रह रहा था लेकिन अमेरिका को कभी भी उसकी बातों पर भरोसा नहीं हुआ। अमेरिका आज भी मानता है कि पाक में हर किसी को इस बात का बखूबी जानकारी थी कि लादेन वहीं पर है।

Show More

Leave a Reply

 Click this button or press Ctrl+G to toggle between multilang and English

Your email address will not be published. Required fields are marked *