Breaking Newsकोलकाताधार्मिक खबरें

पौष पूर्णिमा पर संगम में तीस लाख श्रद्धालुओं ने लगाई डुबकी

माघ मेले के पहले स्नान पर्व पौष पूर्णिमा के अवसर पर मंगलवार को शाम चार बजे तक लाखों श्रद्धालुओं ने गंगा नदी में आस्था की डुबकी लगाई। मेला प्रशासन के अनुसार लगभग तीस लाख श्रद्धालुुओं ने गंगा के विभिन्न घाटों पर स्नान कर पुण्य अर्जित किया और कल्पवासियों का कल्पवास आज से शुरू हो गया।
मंगलवार को सूर्यदेव के दर्शन नहीं हुए और इस कड़ाके की ठंड के बावजूद संगमनगरी में पौष पूर्णिमा स्नान के पर्व पर श्रद्धालुओं, स्नानार्थियों में काफी उत्साह देखा गया। पौ फटने के साथ ही लोगों की भीड़ और उत्साह बढ़ता गया। बच्चे, बूढ़े, युवा, महिलाएं सभी संगम की ओर बढ़ते नजर आये। यद्यपि पौष पूर्णिमा सोमवार से लगने के कारण स्नान कल शाम से ही प्रारम्भ हो गया था और संगम स्नान के लिए आने वाले श्रद्धालुओं का रात भर तांता लगा रहा जो आज दोपहर तक चलता रहा। हालांकि तीन बजे के बाद भीड़ कम हुई। 
भूले-भटके 35 लोगों को उनके स्वजनों से मिलाया 
भूले भटके शिविर के संचालक उमेश चन्द्र तिवारी के अनुसार तीन बजे तक कुल 35 भूले-भटके लोगों को उनके स्वजनों से मिलाया गया, जिसमें दो बच्चे भी शामिल हैं। पूरे मेला क्षेत्र से किसी भी तरह की अप्रिय घटना की खबर नहीं है। मेले में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गये हैं और सीसीटीवी कैमरे एवं जवान बराबर निगरानी कर रहे हैं।
गौरतलब है कि पौष पूर्णिमा स्नान के बाद कई शिविरों में माह भर चलने वाले कार्यक्रमों का आयोजन शुरू हो गया। जिसके अंतर्गत ऊं नमः शिवाय एवं वाहे गुरू आश्रम में एक माह का भण्डारा व लंगर शुरू हो गया है, जो निःस्वार्थ भाव से प्रतिवर्ष एक माह लगातार अन्न दान करते रहते हैं। इसके साथ ही जगह-जगह प्रवचन, कथा, यज्ञ-हवन एवं लीलाएं चल रही हैं।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *