Breaking Newsऐसा भी होता है

मंदिर में भगवान खुद करते है अपने मरीजों का इलाज

जयपुर। भारत में ऐसी कई धार्मिक मान्यताएं है जिनके बारे में सुनकर आसानी से विश्वास नहीं होता। इसके साथ ही देश में ऐसे कई मंदिर है जो अपनी किसी खास विशेषता के लिए जाने जाते हैं। इन मंदिरों में हर रोज लाखों भक्त अपनी मनोकामना लेकर दर्शन के लिए जाते हैं। ऐसे भी कई मंदिर है जहां जाने से गम्भीर से गम्भीर बीमारी ठीक हो जाती है। आज हम इस लेख में ऐसे ही एक मंदिर के बारे में बता रहें हैं जिस के बारे में मान्यता है कि यहां जाने से व मंदिर की परिक्रमा करने और भभूत मात्र लगाने से केंसर जैसी बीमारी भी ठीक हो जाती है।

मध्यप्रदेश के ग्वालियर से पास बसे भिंड जिले में स्थित दंदरौआ सरकार धाम के हनुमान मंदिर के बारे मे बता रहें हैं। इस मंदिर के लिए मान्ययता है कि यहां पर हनुमान जी डॉक्टर बन के श्रद्धालुओं का इलाज करते हैं। मंदिर की इस मान्यता के अनुसार इस मंदिर में लाखों श्रद्धालु दर्शन के लिए आते हैं।

इस मंदिर के लिए पौराणिक कथा प्रचलित है जिसके अनुसार इस मंदिर में शिव कुमार दास नाम का एक साधु रहता था। जिसे कैंसर रोग हो गया था। लेकिन वह हनुमान जी की सेवा करता था। जिसके कारण एक दिन वह बजरंगबली की सेवा कर रहा था उसी समय बजरंगबली गले में आला डाले डॉक्टर के वेश में साधु के सामने प्रकट हो गए। हनुमान जी ने साधु की बीमारी सही कर दी। जिसके बाद साधु पूरी तरह से ठीक हो गया।

तब से माना जाता है कि यहां पर हनुमानजी कई जानलेवा बिमारियों का इलाज करते हैं। जिसके कारण यहां पर फोड़ा, अल्सर और कैंसर जैसी खतरनाक बीमारियों सहीं हो जाती है। इसके साथ ही यहां पर हनुमान जी की भभूत और मंदिर की 5 परिक्रमा लगाने से बीमारी का इलाज होता है। हनुमान जी के बीमारी का इलाज करने के बाद से इस मंदिर का नाम दर्दहरौआ पडा लेकिन वहां की लोकल भाषा में धीरे धीरे नाम का अप्रभंश होने के बाद से मंदिर को लोग दंदरौआ कहते हैं।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *