Breaking News

श्रमिक संगठनों के हड़ताल का राज्य में मिलाजुला असर

हावड़ा। केंद्र सरकार की नीतियों के विरुद्ध 18 श्रमिक संगठनों के राष्ट्रव्यापी हड़ताल का राज्य में  मिलाजुला असर पड़ा। हड़ताल समर्थकों ने जगह-जगह सड़क व रेल यातायात बाधित कर दिया। इस दौरान पुलिस से झड़प भी हुई। स्थिति काबू में करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज भी करना पड़ा। पुलिस ने कई बंद समर्थकों को गिरफ्तार किया है। 

दो दिवसीय देशव्यापी बंद के पहले दिन मंगलवार को बंद समर्थकों ने सड़क व रेल यातायात अवरुद्ध कर दिया। हावड़ा, बर्दवान मेन शाखा के बैंची, मोगरा, हुगली, मानकुंडू, चंदननगर, चुंचुड़ा, श्रीरामपुर, रिसड़ा और कोन्नगर स्टेशनों पर बंद समर्थकों ने रेल मार्ग बाधित कर दिया। हावड़ा रुट के तारकेश्वर शाखा के सिंगुर स्टेशन पर भी बन्द समर्थकों ने रेल यातायात रोक दिया। इस दौरान चन्दननगर रलेवे स्टेशन पर बन्द समर्थकों ने कटिहार एक्सप्रेस पर पथराव भी किया। श्रीरामपुर में रेलवे पुलिस को बन्द समर्थकों पर लाठीचार्ज करना पड़ा। पुलिस ने यहां कई बन्द समर्थकों को हिरासत में ले लिया। 

दूसरी ओर बन्द को विफल करने के लिये सुबह से ही तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ता भी मैदान में उतरे हुए थे। मंगलवार सुबह कोन्नगर और उत्तरपाड़ा में तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ बन्द समर्थकों की झड़प हुई। आरोप है कि उत्तरपाड़ा में बन्द समर्थकों ने ट्रकों की चाभी निकाल ली और एक स्कूल बस का हवा भी निकाल दी।  

उधर सियालदह मेन शाखा के सोदपुर, टीटागढ़, कांचरापाड़ा, श्यामनगर, इच्छापुर में भी बन्द समर्थकों ने रेल मार्ग जाम कर दिया। इसके चलते लोकल ट्रेनों के साथ-साथ एक्सप्रेस ट्रेनों का परिचालन भी प्रभावित हुआ और यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। सुबह छह बजे से लेकर तकरीबन 10 बजे तक यात्री परेशान रहे। इसके बाद धीरे-धीरे स्थिति सामान्य हुई।

इसके अलावा बंद समर्थकों ने बर्दवान जिले के दुर्गापुर, जामुड़िया, मेदिनीपुर जिले के खड़गपुर सहित विभिन्न इलाकों में सड़क और रेल यातायात बाधित कर दिया।  

कोलकाता में भी बंद का असर देखने को मिला। बंद को विफल करने के लिए मंगलवार सुबह से ही श्यामबाजार, मौलाली, गरिया, धर्मतल्ला, यादवपुर सहित कोलकाता के महत्वपूर्ण स्थानों पर पुलिस गश्त करती रही। बंद के कारण रेल सेवा प्रभावित हुई लेकिन बसों का परिचालन सामान्य रहा। बंद के मद्देनजर बड़ी संख्या में सरकारी बसों को सड़क पर उतारा गया था। निजी बसें सड़क पर अन्य दिनों की तुलना में कम दिखी। उत्तरबंगाल के विभिन्न जिलों में मंगलवार को बन्द का प्रभाव अपेक्षाकृत कम देखने को मिला। 

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *