Uncategorized

स्तन व गर्भाशय ग्रीवा कैंसर पर परिचर्चा २ अक्टूबर को

कोलकाताः रोटरी डिस्ट्रीक ३२९१ कलकत्ता विजनरीस के तत्वावधान में वूडलैंडस् हॉस्पिटल के सहयोग से आगामी २ अक्टूबर को महिलाआें में होने वाले स्तन कैंसर व गर्भाशय कैंसर पर जागरुकता फैलाने के उद्देश्य से महानगर के आईसीसीआर आडिटेरियम में एक परिचर्चा सभा का आयोजन किया गया है. इस परिचर्चा सभा में विशिष्ट अतिथि के तौर पर टाटा मेडिकल सेंटर के डिप्टी डिरेक्टर डॉ. वी.आर रामनन, मुख्य अतिथि के तौर पर यूएस काउंसिल जनरल सुश्री पट्टी हॉफमैन, सम्मानीय अतिथि के तौर पर डीजी रोटारियन मुकुल सिन्हा उपस्थित रहेंगे. कार्यक्रम में प्रधान वक्ता डां. मंदर एस नंदकरनी जबकि अतिथि वक्ता के रुप में डॉ. कुशाग्राधी घोष उपस्थित होंगे. यह जानकारी रोटारियन विकास विड़ला ने दी. इस कार्यक्रम के सफल आयोजन में रो. विधि चांडक, रो. अशोक सरावगी का सक्रिय भूमिका है. कार्यक्रम उपस्थति के लिए पंजीकरण हेतू  9051052600, 9007124333 पर संपर्क कर सकते हैं. उल्लेखनीय है कि पिछले साल स्तन कैंसर की वजह से पांच लाख महिलाओं की मौत हुई थी। इसकी एक मुख्य वजह स्तन कैंसर के बारे में जागरूकता का अभाव है। ज्यादातर महिलाएं इस बीमारी के लक्षणों और इसके जोखिम के बारे में नहीं जानती हैं। वहीं सर्वाइकल कैंसर दुनियाभर की महिलाओं में स्तन कैंसर के बाद होनेवाला दूसरा सबसे आम कैंसर है. औसतन विश्व में हर 10 में से एक महिला (35 से 55 आयुवर्ग) इसका शिकार होती है.  यह मुख्यत: ह्यूमन पेपिलोमा वायरस या एचपीवी के कारण होता है. यह ऐसी स्थिति है, जो मुख्यत: गर्भाशय ग्रीवा यानी सर्विक्स की परत या गर्भाशय के निचले हिस्से को प्रभावित करती है. यह कैंसर धीरे-धीरे विकसित होता है और समय के साथ पूर्ण विकसित हो जाता है.रोटारियन विकास बिड़ला ने कहा कि देश के ग्रामीण इलाकों में जानकारी के अभाव में अधिकतर महिलाओं की मौत इससे हो जाती है. लोक-लाजवश भी कई महिलाएं इस समस्या को दूसरे से कह नहीं पातीं. इसी का नतीजा है कि विश्व के बाकी देशों के मुकाबले भारत में सर्वाइकल कैंसर तेजी से अपने पैर पसार रहा है. 

Show More

Did You Know ?

Mind Test

Leave a Reply

 Click this button or press Ctrl+G to toggle between multilang and English

Your email address will not be published. Required fields are marked *