हटके ख़बर

बदलते सांस्कृतिक परिवेश

बदलते सांस्कृतिक परिवेश ने आज युवा पीढ़ी अत्यधिक प्रभावित किया है। आज युवाओं की मानसिकता बदल रही है, उनके पहनावे में खासा बदलाव आया है। आज की छात्रएं किसी एक परिवेश में न बंधकर इच्छानुसार परिधान धारण करना चाहती हैं क्योंकि आज के परिधान स्टेटस सिंबल के साथ ही युवाओं की आवश्यकताओं के पर्याय बन गए हैं।

दिल्ली के मोतीलाल कॉलेज में वर्षा जैसे ही प्रवेश करती र्है सभी लड़के-लड़कियों की निगाहें उसी तरफ घूम जाती हैं। सहज और साधारण सी दिखने वाली वर्षा में ऐसा क्या है जिसे देख अन्य लोग आकर्षित होते हैं। अन्य लड़कियां उसके व्यक्तित्व से प्रभावित होकर कई बार उसे हीरोईन की उपाधि भी दे देती हैं। आज के समय में हर कोई बस अच्छा दिखना चाहता है। पढ़ाई की बोरियत से बचने के लिए विद्यार्थी मौजमस्ती करते दिखाई देते हैं। खासकर लड़कियां कॉलेज में लेटेस्ट कपड़ों और फैशन को फॉलो करती नजर आती हैं, वे अपने हमउम्र युवाओं के साथ घूमना फिरना चाहती हैं।

देश के महानगरों में स्थित कई कॉलेजों लड़कों के इस बहुत खुले रूप को स्वीकार लिया गया है, या कभी मिश्रित मानसिकता भी दिखाई देती है। हर बदलाव का असर सबसे पहले मुंबई, दिल्ली, कोलकाता और चेन्नई जैसे महानगरों में दिखाई पडता है। किंतु अब फिल्मों, टीवी के जरिए फैशन की लहर छोटे शहरों, कस्बों में भी जल्द ही पहुंच जाती है। दिल्ली के कॉलेज मोटे तौर पर नॉर्थ व साउथ कैम्पस में विभाजित हैं इन दोनों कैम्पस क्षेत्रें के वातावरण में पढ़ने, लिखने, बातचीत करने व उनके पहनावे में अंतर स्पष्ट देखा जा सकता है।

कॉलेज की पूनम और नीलम ने कहा यह मायने नहीं रखता कि वह पढ़ाई में तेज है या नहीं, हां! लाईम लाईट में रहने के लिए आत्मविश्वास और अन्य गतिविधियां भी जरूरी हैं। ऐसे कपडे़ न पहनें जिससे बहन जी या माँजी जैसे शब्द सुनने पड़ें फिर लड़की फोर्ड या होंडा सिटी कार से उतरे तो बात ही क्या है! 

नम्रता के मुताबिक, आजकल टीवी में आने वाले विज्ञापनों, सौंदर्य निखार कार्यक्रमों का प्रभाव बहुत है। सौंदर्य विशेषज्ञा शीतल राय कहती हैं आज के फिल्म स्टार हमारी नई पीढ़ी के आदर्श हैं हर युवा उनके जैसा दिखना चाहता है। सौंदर्य के प्रति सतर्कता, टिप्स लेने की जागरुकता आई है। लड़कियों में मॉडल जैसा दिखने या हीरोईन बनने की ललक बढ़ती जा रही है। सुंदर चेहरा ही सब कुछ नहीं है।

यह भी पढें: रहती है थकान तो करें ये काम

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *