फ़िल्मी दुनिया

अब इस अभिनेत्री ने बयां किया कास्टिंग काउच

नई दिल्ली। पंजाबी फिल्म अभिनेत्री पायल राजपूत ने दक्षिण की फिल्म आरएक्स 100 में से अपनी टॉलीवुड कैरियर शुरू किया था। इस फिल्म में वह एसएस कार्तिकेय के साथ नजर आई थीं, यह फिल्म काफी लोकप्रिय हुई थी। फिल्म की सफलता के बाद पायल कई फिल्मों में काम कर रही है, इस दौरान उन्होंने खुलकर फिल्म जगत के भीतर की बुराईयों पर बात की है। पायल का मानना है कि मीटू अभियान की वजह से कुछ महिलाओं को जरूर सामने आकर खुलकर आप बीती बताने की हिम्मत मिली है। लेकिन बावजूद इसके समाज में कोई बड़ा बदलाव नहीं आ रहा है।

मीटू के बाद भी यह सब हो रहा है

एक इंटरव्यू में पायल ने कहा कि मीटू अभियान के बावजूद कास्टिंग काउच का लोगों को शिकार होना पड़ रहा है। जब पायल से पूछा गया कि क्या यौन शोषण के मामले कम हुए हैं तो उन्होंने कहा कि आरएक्स 100 की रीलीज के बाद उनके साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ था। किसी ने मुझे संपर्क किया, मुझे बड़ी फिल्म में रोल देने का वादा किया।

लेकिन मैं इस बात के हमेशा से खिलाफ रही हूं कि शरीर के बदले बड़ा रोल हासिल किया जाए, लिहाजा मैंने इसके खिलाफ अपना जवाब दिया। लेकिन सच कहूं तो जब मुंबई और पंजाब में मैं छह साल से काम कर रही थी तो इस तरह की घटनाएं मेरे साथ हुई थीं। मुझे शक है कि इस तरह की घटनाओं का मुझे भविष्य में भी सामना करना पड़ेगा। सच्चाई यह है कि मीटू अभियान के बाद भी कास्टिंग काउच की समस्या ना सिर्फ फिल्म जगत बल्कि हर पेशे में है।

कास्टिंग काउच के बारे में खुलकर बोलूंगी

पायल ने कहा कि वह कास्टिंग काउच के बारे में हमेशा खुलकर बोलती रहेंगी। उन्होंने कहा कि अंतर सिर्फ इतना है कि कुछ लोग इसे खुलकर बोलने की हिम्मत करते हैं, जैसा कि मीटू अभियान के दौरान कुछ लोगों ने खुलकर अपनी आपबीती सामने रखी थी। लेकिन कुछ लोग इस दौरान भी अपनी बात को सामने नहीं रख पाए। मैं हमेशा ही खुलकर बोलने में विश्वास रखती हूं और इस बारे में बोलती हूं, मैं अपने अस्मित को गिरवी रखकर कुछ हासिल नहीं करना चाहती हूं।

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button