Breaking Newsदेश

उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती की रिहाई मुश्किल

जयपुर। कश्मीर में नजरबंद महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला सहित तमाम अन्य प्रमुख नेताओं की रिहाई शांति कायम रखने के लिए शपथ पत्र पर दस्तखत किए बिना मुश्किल बताई जा रही है.

जम्मू कश्मीर में अगस्त के महीने में सरकार द्वारा धारा 370 के अधिकतर प्रावधानों को खत्म किए जाने के पहले से ही जम्मू कश्मीर के कई बड़े नेताओं को घर गिरफ्तार कर लिया गया था और वह इस वक्त भी नजरबंद हैं और ऐसे में अब सरकार ने उनसे शर्त रखी है कि वह अगर शपथ पत्र दायर करते हैं जिसमें यह कहा गया है कि वह किसी भी प्रकार का प्रदर्शन या किसी भी प्रकार का विरोध नहीं करेंगे उसी के बाद उन्हें रिहा किया जाएगा खबर है कि कई नेताओं ने शपथ पत्र को दायर करा है और उन्हें धीरे-धीरे रिहा किया जाएगा लेकिन महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्लाह जैसे नेताओं ने शपथ पत्र दस्तखत करने से इनकार कर दिया है.

वह इसके अलावा सूत्रों में के हवाले से सेना में यह खबर है कि कई जगहों पर आतंकियों के हमले की भी गुंजाइश है और कई जगहों पर अब आतंकी गतिविधियों में लिप्त करने के लिए लोगों को जोड़ने की कवायद भी तेज हो चुकी है वहीं आशंकाओं के चलते इन नेताओं को रिहाई देने में भी देरी होगी वहीं सुरक्षा बल सरकारी एजेंसियों के सहयोग से कश्मीर में ज्यादातर हिस्सों में अमन-चैन का माहौल बताया जा रहा है.

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button