Breaking Newsदेश

एलओसी पर पाकिस्तान ने तैनात किये 2000 सैनिक

जम्मू-कश्मीर में धारा 370 व 35ए को हटाए जाने के बाद से बौखलाया पाकिस्तान राज्य में अशांति फैलाने के लिए लगातार नियंत्रण रेखा पर गोलीबारी कर घुसपैठियों को सीमा के इस पार भेजने की कोशिश कर रहा है। अबपाकिस्तान ने पाक अधिकृत कश्मीर में नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पास करीब 2000 सैनिकों को तैनात किया है।फिलहाल पाक सैनिक नियंत्रण रेखा से 30 किलोमीटर की दूर पर कैंप कर रहे हैं।

पीओके के पुंछ इलाके के पास बाग और कोटली सेक्टर में पाकिस्तानी सेना की एक ब्रिगेड देखी गई है।इस ब्रिगेड में 2000 से अधिक सैनिक हैं। पाकिस्तान इस ब्रिगेड का इस्तेमाल जैश-ए-मोहम्मद और लश्कर-ए-तैयबा के आतंकियों की भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ कराने के लिए कर सकता है।

सीमा पर हो रही पाक सेना की इस हलचल से भारतीय सुरक्षा एजेंसियां भी और अधिक सतर्क हो गई हैं। सेना के सूत्रों ने कहा है कि फिलहाल पाकिस्तानी सैनिकों की यह तैनाती आक्रमण करने वाली नहीं है लेकिन इसके बावजूद इसके हम उनकी गतिविधियों पर सघन निगरानी रख रहे हैं। सीमा पर पाक सैनिकोंकी यह आवाजाही ऐसे समय में हुई है, जब आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद ने स्थानीय लोगों और अफगानों की भर्ती शुरू कर दी है।

पाकिस्तान की ओर से नियंत्रण रेखा के पास की गई 2000 सैनिकों की तैनाती परभारतीय सेनाअपनी नजर बनाए हुए है। हाल ही में बारामुला से भारतीय सेना ने आतंकी संगठन लश्कर के दो पाकिस्तानी आतंकियों को पकड़ा है।

Indian army

इसके अलावा हाल के दिनों में भी लश्कर और जैश के आतंकी पाकिस्तान की फॉरवर्ड पोस्ट की ओर से भारतीय सीमा में घुसपैठ की कोशिश कर रहे थे लेकिन सीमा पर तैनात भारतीय जवानों की सतर्कता के चलते पाकिस्तान अपने मंसूबों में सफल नहीं हो पाया।

पाकिस्तान लगातार आतंकियों की घुसपैठ कराकर कश्मीर को अस्थिर करने की कोशिश कर रहा है जबकि खुदअंतरराष्ट्रीय स्तर पर कश्मीर को लेकर यह जताना चाह रहा है कि वहां के हालात सामान्य नहीं हैं और न ही वहां शांति व्यवस्था है।इससे पहले भी पाकिस्तानजम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के निरस्त होने के बाद से एलओसी पर 100 से अधिक एसएसजी कमांडो तैनात कर चुका है।पाकिस्तान के इस कदम से एक बार फिर उसके नापाक इरादों का पता चल रहा है।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button