Breaking Newsदेश

कश्मीर घाटी में सामान्य जनजीवन पटरी पर

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 समाप्त किए जाने के बाद कश्मीर घाटी में बंद शिक्षण संस्थानों को चरणबद्ध तरीके से खोलने की प्रक्रिया बुधवार को पूरी हो गई। सभी कालेज और विश्वविद्यालय खुल गए। प्राथमिक, माध्यमिक और उच्च माध्यमिक स्कूल पहले ही खुल चुके हैं। 5 अगस्त के बाद शिक्षण संस्थानों को एहतियातन बंद कर दिया गया था। घाटी में सामान्य जनजीवन तेजी से पटरी पर लौट रहा है।

कश्मीर घाटी में अब अलगाववादी गतिविधियां थम गई हैं। देश विरोधी और आजादी के नारे लगने बंद हो गए हैं। मुठभेड़ के बाद हिंसक प्रदर्शनों का दौर भी गुजरे जमाने की बात हो गई है। पूरी घाटी में शांति है। स्थानीय नागरिक अपने बच्चों को हिंसक गतिविधियों से दूर रख रहे हैं। गुरुवार से पर्यटकों पर घाटी में आने पर लगा प्रतिबंध भी हट जाएगा। घाटी फिर पर्यटकों से गुलजार होगी।

कश्मीर घाटी में अब लोग कहीं भी आ-जा सकते हैं। सुबह-शाम छोटी- बड़ी दुकानें खुल रही हैं। सरकारी कार्यालयों में चहल-पहल बढ़ गई है। रेहड़ी-फड़ी का धंधा भी सामान्य हो गया है। सेब की मंडियों में रौनक है। सेब व्यापारी अब फसल नैफेड को बेचने के अलावा अपने स्तर पर देश की विभिन्न मंडियों में भेज रहे हैं। लोग बेखौफ होकर घरों से बाहर निकल रहे हैं।

प्रशासन जल्द ही श्रीनगर समेत कई जिलों में चरणबद्ध तरीके से मोबाइल सेवा बहाल करने की प्रक्रिया शुरू करने वाला है। मोबाइल इंटरनेट सेवा अभी बंद है। कश्मीर घाटी के सभी जिलों में लैंडलाइन फोन सेवा बहाल हो चुकी है। राज्यपाल सत्यपाल मलिक की कश्मीर घाटी की स्थिति पर नजर है। वह पल-पल की जानकारी अधिकारियों से ले रहे हैं।घाटी के संवेदनशील स्थानों पर सुरक्षाबलों का पहरा है।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button