धार्मिक खबरें

कार्तिक मास में रखें इन बातों का ध्यान

इस महीने (Kartik Maas 2020) कई धार्मिक अनुष्ठान और कार्यक्रम होंगे। इस महीने में खासतौर पर तुलसी और शालिग्राम की विशेष पूजा और आराधना की जाएगी। लेकिन इस महीने कुछ नियमों का पालन करना चाहिए। ये नियम इस प्रकार हैं-

दीपदा

कार्तिक मास (Kartik Maas 2020) में दीपदान का महत्व धर्म शास्त्रों में भी बताया गया है। पुराणों के अनुसार इस माह दीपदान करने के माहतम्य के बारे में स्वयं भगवान विष्णु ने ब्रह्मा जी को उन्होंने नारद जी को और नारद मुनि ने महाराज पृथु को बताया है। इसलिए इस माह में किसी नदी या पोखर में दीपदान अवश्य करें।

तुलसी पूजा

हिंदू सनातन धर्म में तुलसी पूजा का बहुत महत्व बताया गया है कार्तिक माह (Kartik Maas 2020) में तुलसी पूजन का महत्व और भी अधिक बढ़ जाता है क्योंकि यह भगवान विष्ण को प्रिय हैं। इसलिए कार्तिक माह में नियमित रुप से तुलसी का पूजन करना चाहिए। इस माह में तुलसी दान करने का भी बहुत महत्व होता है।

 

सात्विकता

कार्तिक माह (Kartik Maas 2020) में भूमि पर शयन करने के नियम मुख्य माना गया है। भूमि पर शयन करने के मन में सात्विकता बनी रहती है। इसलिए इस माह भूमि पर ही शयन करना चाहिए।

शरीर पर तेल लगाए

कार्तिक माह (Kartik Maas 2020) में शरीर पर तेल लगाना वर्जित माना जाता है। कार्तिक माह में केवल नरक चतुर्दशी के दिन ही तेल लगा सकते हैं। इसलिए इस माह में शरीर पर तेल न लगाएं।

दलहन निषे

कार्तिक मास  में दलहन यानि दालों का सेवन निषेध माना गया है। इस माह में उड़द, मूंग, मसूर, मटर और राई आदि का सेवन नहीं करना चाहिए।

व्रत और तप का मा

कार्तिक मास (Kartik Maas 2020) व्रत और तप करने का माह माना गया है, इसलिए इस माह में ब्रह्मचर्य का पालन अवश्य करना चाहिए। मान्यता है कि ब्रह्मचर्य का पालन न करने पर अशुभ फल की प्राप्ति हो सकती है।

 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button