Breaking Newsकोलकाता

तृणमूल में जाने पर सुरक्षा को रहता है खतरा : दिलीप घोष

कोलकाता, 02 नवम्बर (हि.स.)। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने शनिवार को कहा कि तृणमूल में जाने वाले नेताओं को अपनी ही पार्टी के लोगों से जान का खतरा रहता है, इसलिए उनकी सुरक्षा बढ़ानी मजबूरी हो जाती है। 

विधानसभा चुनाव से पहले चल रहे राज्यव्यापी “चाय पर चर्चा” के लिए जनसंपर्क अभियान के सिलसिले में शनिवार सुबह वह दक्षिण 24 परगना के गरिया शीतला में पहुंचे हुए थे। सुबह 10 बजे के करीब वहां आम लोगों के साथ उन्होंने बातचीत की। उनकी समस्याएं सुनीं। कई लोगों ने उन्हें पीने के पानी की आपूर्ति और जल निकासी की समस्याओं से अवगत कराया।

गरिया इलाके में ऑटो चालकों की मनमानी और रंगदारी की शिकायतें भी लोगों ने कीं। उन्हें तृणमूल कांग्रेस का संरक्षण मिलने का दावा भी लोगों ने किया है। दिलीप घोष ने इन तमाम समस्याओं को सूचीबद्ध किया है और इस पर आवश्यक रणनीति बनाकर पार्टी की ओर से कदम उठाने का आश्वासन भी दिया है। इसके बाद उन्होंने मीडिया से बात की। 

इस दौरान उनसे शोभन चटर्जी को राज्य सरकार की ओर से दी गई वाई श्रेणी की सुरक्षा के बारे में सवाल पूछा गया। इसके जवाब में उन्होंने कहा कि भाजपा में रहने वाले लोगों को कोई डर नहीं रहता। इसलिए जब तृणमूल छोड़कर भाजपा में आए थे, तब उनकी सुरक्षा हटा ली गई थी। अब मुझे सुनने को मिला है कि वह वापस तृणमूल में जा रहे हैं, इसलिए उन्हें उनकी ही पार्टी के नेताओं से खतरा है। उनको इसलिए सुरक्षा मिली है कि वह अपनी पार्टी में सुरक्षित रह सकें। हालांकि शोभन चटर्जी के तृणमूल में लौटने के बारे में स्थिति स्पष्ट करते हुए उन्होंने कहा कि शोभन ने उनसे इस बारे में न कोई बातचीत की है और ना ही कोई आधिकारिक जानकारी कहीं से दी जा रही है। 

 

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button