Breaking Newsकोलकाता

रसगुल्ला नाम पर पूरी दुनिया में बंगाल का एकाधिकार

बंगाल का ही हुआ रसगुल्ला

कोलकाता। रसगुल्ला नाम पर एकाधिकार को लेकर ओडिशा के साथ लम्बी कानूनी लड़ाई के बाद पश्चिम बंगाल को ज्योग्राफिकल इंडिकेशन यानी जीआई पंजीकरण मिल गया है। इसके बाद रसगुल्ला नाम पर पूरी दुनिया में बंगाल एकाधिकार हो गया है। किसी भी उत्पाद का जीआई टैग उसके स्थान विशेष की पहचान बताता है।
रसगुल्ले के आविष्कार को लेकर पश्चिम बंगाल तथा ओडिशा के बीच वर्षों से कानूनी लड़ाई चल रही थी। दोनों ही इसके अविष्कारक मान रहे थे। अंततः जीआई ने ओडिशा के आवेदन को खारिज कर दिया। इसके बाद रसगुल्ला नाम पर बंगाल का एकाधिकार हो गया। अधिकतर लोगों को यही पता है कि रसगुल्ला पश्चिम बंगाल का है जबकि कुछ का मानना है कि यह मूलत ओडिशा का है। रसगुल्ले पर ओडिशा और पश्चिम बंगाल अपना-अपना दावा जताने के लिए सरकारी समितियां तक गठित कर दी थी।
दरअसल, यह विवाद तब शुरू हुआ जब ओडिशा के पहाल में मिलने वाले रसगुल्लों को लेकर दो साल पहले ओडिशा सरकार ने जीआइ टैग हासिल करने का प्रयास किया। यहां से इस मिठाई को पश्चिम बंगाल भी सप्लाई किया जाता है। किसी भी उत्पाद का जीआई टैग उसके स्थान विशेष की पहचान बताता है। कटक और भुवनेश्वर के बीच स्थित पहाल में हाइवे के दोनों किनारे वर्षों से रसगुल्ले का थोक बाजार लगता है। पहाल रसगुल्ले के लिए बहुत मशहूर है। रसगुल्लों से जुड़ी सबसे प्रचलित कहानी यही है कोलकाता में 1868 में नबीनचंद्र दास ने इसे बनाने की शुरुआत की थी। कई इतिहासकारों की दलील है कि 17वीं शताब्दी से पहले भारतीय खानपान में ‘छेना’ का जिक्र नहीं मिलता जो रसगुल्ला बनाने के लिए सबसे जरूरी होता है। भारतीय पौराणिक आख्यानों में भी दूध, दही, मक्खन का जिक्र तो मिलता है पर छेना का नहीं मिलता।
मुख्यमंत्री ने जताई खुशी
रसगुल्ले को जीआई पहचान मिलने के बाद लंदन में मौजूद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ट्वीट कर खुशी जताई है। उन्होंने लिखा है, ‘यह सबके लिए मिठी खबर है। रसगुल्ला को बंगाल का जीआई रजिस्ट्रेशन मिलने से बंगाल गौरवान्वित है।’

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button