Breaking Newsविदेश

रूस की कोरोना वैक्सीन

जब पूरी दुनिया देखते ही देखते चीन से निकले खतरनाक कोरोना वायरस की गिरफ्त में आ चुकी थी तभी रूस ने कोरोना वैक्सीन का आविष्कार कर पूरी दुनिया में छा रहे अंधकार में रोशनी की एक किरण दिखाई. मंगलवार को रूस ने कोरोना वायरस के सभी मानकों को पूरा करते हुए कोरोना वैक्सीन का आधिकारिक ऐलान कर दिया है

रूस की राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की दोनों बेटियों को भी ये टीका लगवाया उन्हें किसी भी तरह का कोई साइड इफेक्ट भी नहीं हुआ है. अब रूस ने ऐलान किया है कि वह बुधवार को कोरोना के खिलाफ बनी वैक्‍सीन को आधिकारिक तौर पर लांच करेगा. वहीं दुनिया के कई देशों के जानकारों ने रूस की कोरोना वैक्सीन को लेकर कई तरह के सवाल भी उठाए हैं. इन विशेषज्ञों का मानना है कि कैसे रूस इतने कम समय में कोरोना की वैक्‍सीन को तैयार कर पाया है.

आपको बता दें कि मौजूदा समय रूस में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या लगभग 8 लाख के आस-पास है. इस लिहाज से रूस कोरोना वायरस से संक्रमित देशों की सूची में अमेरिका, ब्राजील भारत के बाद चौथे नंबर पर है. रूस में गमाल्‍या इंस्टिट्यूट के अलावा वेक्‍टर स्‍टेट रिसर्च सेंटर ऑफ वायरोलॉजी ऐंड बायोटेक्‍नॉलजी इसकी वैक्‍सीन पर काम कर रहे हैं.

कोरोना की ये रसियन वैक्सीन गमाल्‍या की बनी है जो रजिस्‍ट्रेशन के 3 से 7 दिन के भीतर ही नागरिकों पर इस्‍तेमाल के लिए उपलब्‍ध हो सकेगी, इन सब के बावजूद दुनिया के विशेषज्ञों को इस वैक्सीन पर संदेह हो रहा है वो वैक्सीन को शक की निगाहों से देखते हुए इन  बातों का दावा कर रहे हैं-

 

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button