Breaking Newsकोलकाता

हाई कोर्ट ने ममता सरकार को लगाई फटकार

कोलकाता। कोरोना संकट काल मेें हाई कोर्ट ने पटाखों की बिक्री, खरीद तथा इस्तेमाल पर पाबंदी होने के बावजूद भी शहर में लगातार आतिशबाजी होने और पटाखों की बिक्री  पर ममता सरकार को फटकार लगाई। इसके अलावा कोराेना संकट मेें काली पूजा और जगधात्री पूजा आदि त्योहारों पर हाेने  वाली भीड़ को रोकने के लिए कोई योजना न होने पर हाई कोर्ट ने सरकार  की कार्यशैली पर  सवाल  उठाए हैैं।

सुनवाई के दौरान न्यायमूर्ति संजीव बनर्जी ने राज्य सरकार से पूछा है कि लोगों का जीवन खतरे में है और सरकार कर क्या रही है? कोई प्रभावी योजना क्यों नहीं बनाई गई है? न्यायमूर्ति संजीव बनर्जी ने कहा समाचार पत्रों में विभिन्न रिपोर्ट प्रकाशित की जा रही हैं। यह ज्ञात है कि बाजार में पटाखे उपलब्ध हैं। विशेष रूप से नुंगई, चंपाहाटी, बड़ाबाजार में पटाखे बेचे जा रहे हैं। यह कैसे संभव है? हम कह सकते हैं कि पटाखों का उपयोग नहीं किया जा सकता है। इसकी निगरानी कोलकाता पुलिस या जिला पुलिस को करनी चाहिए।

हाई कोर्ट ने प्रशासन को छठ पूजा के अवसर पर एक जगह भीड़ एकत्र होने पर सख्त कार्रवाई करने का निर्देश दिया। न्यायमूर्ति संजीव बनर्जी ने कहा कि कोलकाता में 360 घाट हैं, जहां लोग पूजा के लिए आते हैं। कोलकाता के अलावा, सिलीगुड़ी और दुर्गापुर में भी छठ पूजा आयोजित होती है। सरकार की कोई योजना नहीं है। न्यायमूर्ति के सवाल का जवाब देते हुए राज्य सरकार ने सफाई दी कि सभी को मास्क पहनने का निर्देश दिया गया है। राज्य के इस कथन से कोर्ट संतुष्ट नहीं हुआ। न्यायाधीश ने कहा कि इससे क्या होगा?

कोर्ट में राज्य अटॉर्नी ने कहा कि अगर कोई बाहर जाता है, तो हम इसे कैसे संभालेंगे? इस जवाब से न्यायमूर्ति बनर्जी नाराज हुए। उन्होंने कहा कि क्या इसका मतलब है कि आपके पास कोई योजना नहीं है? जहां जीवन सामान्य नहीं है, राज्य सरकार की योजना क्या है? आपको संख्याओं को निर्दिष्ट करना होगा।

 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button