Breaking Newsधार्मिक खबरें

Dhanteras 2020: इस दिन भूलकर भी न करें ये गलतियां

धनतेरस को ‘धन्य तेरस’ या ‘ध्यान तेरस’ भी कहते हैं। धनतेरस का त्योहार कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी को मनाया जाता है। धनतेरस दिवाली (Diwali 2020) से पहले आता है। इस बार त्रयोदशी 12 नवंबर रात 09:30 बजे से अगले दिन 13 नवंबर को शाम 05:59 तक रहेगी। इसके बाद चतुर्दशी तिथि आरम्भ हो जाएगी। इसलिए 13 नवंबर को शाम 05:59 से पहले धनतेरस मनाया जाएगा।

13 नवंबर को शाम 05:59 के बाद छोटी दिवाली यानी नरक चतुर्दशी शुरू हो जाएगी। धनतेरस का पर्व धन और आरोग्य से जुड़ा हुआ है। धन के लिए इस दिन कुबेर की पूजा की जाती है और आरोग्य के लिए धनवन्तरि की पूजा की जाती है। धनतेरस के दिन लोग सोना-चांदी (Gold and Silver) की खरीदारी करते हैं, ताकि उनके घर में सुख और समृद्धि बनी रहे। ऐसी मान्यता है कि धनतेरस के शुभ दिन पर सोना, चांदी और बर्तन खरीदने से पूरे साल संपन्नता बनी रहती है। धनतेरस पर कुछ सावधानियां (Dhanteras mistakes) बरतनी भी जरूरी हैं।

अगर आप धनतेरस पर सिर्फ कुबेर की पूजा करने वाले हैं तो ये गलती ना करें। कुबेर के साथ माता लक्ष्मी और भगवान धन्वंतरि की भी उपासना जरूर करें वरना पूरे साल बीमार रहेंगे।

इस दिन शीशे के बर्तन नहीं खरीदने चाहिए। धनतेरस के दिन सोने चांदी की कोई चीज या नए बर्तन खरीदने को अत्यंत शुभ माना जाता है।

धनतेरस पर लोहे से बनी चीजें नहीं खरीदनी चाहिए। कहते हैं कि इस दिन लोहे से बनी चीजें घर पर लाने से राहु ग्रह की अशुभ छाया पड़ जाती है। राहु की नजर पड़ते ही घर में परेशानियां बढ़ने लगती हैं।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button